Moral Stories for kid: A Story About Decision Making in Hindi

Moral Stories for kid  A Story About Decision Making in Hindi:

दोतों नमस्कार, आज में आपको एक Short Moral Stories for Decision Making Topic पर share करने जारहा हूँ, उम्मीद करता हूँ आपको ये हिंदी कहानी (hindi stories) बेहद पसंद आएगी, और इस Moral Stories को Read करने के बाद आपको अपने जीवन में एक सही निर्णय लेने की सिख भी मिलेगी.

एक बच्चा अपने पिता जी के साथ  एक candy store (कैंडी) के दुकान पर जाता है, वहां पर लगे अनेक सारे offer, प्रस्ताव को  देख के वो confuze रहेता है. वो decision नहीं ले पाता है की उसे आखिर क्या करना चाहिए.

वो अपने आप से सवाल पूछते रहेता है की मुझे क्या लेना चाहिए? मुझे क्या लेना चाहिए? बार बार वो अपने मन में यही सोचते रहेता है.

तभी अचानक पिताजी की आवाज़ आती है की बेटा जल्दी चलो हमारे पास पूरा दिन का समय नहीं है.

नहीं पिता जी रुको, ये मेरा पसंदीदा (Favourite) है, ये हमेशा मेरे पसंदीदा (Favourites) रहे हैं. बेटे ने कहा.

तभी वो लड़का वही  दुकान के एक गलियारे में चला जाता है और वहां पर रखें ढेर सारे सामानों मे से कभी बैग उठाता है फिर उसे रखता है, फिर कभी दूसरा सामान उठाता है और उसे भी रखता है,  बार बार वो ऐसे ही हरकत कर रहा था, बच्चा अपने Mind  में ये Decision नहीं ले पारहा था की उसे आखिर क्या लेना है.

जल्दी करो बेटा, तुम्हें किया लेना है जल्दी सोचो और लो, हमें लेट हो रहा है, पिताजी ने कहा.

पिताजी की आवाज सुनकर वो मस्तीखोर लड़का दुकानों के चारों तरफ दोड़ भाग करने लगा, फटा फट वो दुकानों के चारों तरफ अपनी नजरें घुमा रहा था उसे हर चीज अच्छी लग रही थी, लेकिन वो अभी भी decision नहीं लेरह था की उसे आखिर किया लेना है.

बच्चे के पिता जी को पर्याप्त समय के अनुसार late हो रहा था, उन्होंने उस बच्चे का हाथ पकड़ कर दुकान से खाली  हाथ बाहर खिंच कर ले  आये . ये देख उस लड़के के आँखों में आंसू आगये और वो रोने लगा, दोस्तों वो बच्चा सब कुछ लेना चाहेता था, लेकिन आखिर में उसे कुछ नहीं मिला, क्यों? क्यों की उसके सामने अनेक सारी चीजें थी फिर भी वो उसमें से एक भी चयन (select) नहीं कर पारहा था.

Moral Of This Hindi Story : इस कहानी से हमें किया सिख मिलती है?

दोस्तों हम सब कहीं न कहीं उस लड़के के ही जैसे हैं.

सच मायेने में ये पूरा संसार इस Candy Store के जैसा है.

हमारे पास इन संसार में अनेक सारे उपलब्धियां और मौके आते हैं, चाहे वो हमारे (career) जीवन से जुड़ा हो, (education) शिक्षा, (job) नौकरी, (investment) निवेश, (Relationship) रिश्ता, Opportunities हो, लेकिन हम उसका सही समय पे चयन नहीं कर पाते हैं, जिसके वजह से हमें आखिर (Last) में कुछ हासिल नहीं होता है और बाद में पछतावा होता है.

कई बार हम गलत चुनाव करने के बारे में चिंता करते रहेते हैं और सोचने में पूरा टाइम निकाल देते हैं.

Friends जो बीत गया है उसे सोचने और उसको अफ़सोस करने से किया हासिल होगा,

“बड़ा खतरा तो वो है जो लोग decion नहीं लेते हैं”, और अपना पूरा समय व्यर्थ कर देते हैं और लास्ट में उस बच्चे के जैसा खाली हाथ अपनी जिंदगी गुजार देते हैं और बाद में पछताते हैं की काश एक decion लेलिया होता.

दोस्तों ये  Best Short Moral Stories Better life Coaching Blog से Translated की गयी जिसके लेखक Mr. Darren Poke Sir हैं. D.Poke Sir की लिखी गयी ये English Article पढने के लिए यहा Click करें.

इन सभी प्रेणादायक कहानियों को भी जरुर पढ़ें.

Please follow and like us:

achhisoch

यदि आपके पास हिंदी में कोई प्रेरणादायक कहानी , Article, Computer Tips, सामान्य ज्ञान, या कोई महत्वपूर्ण जानकारी है जो आप हमारे साथ Share करना चाहेते हैं तो आप हमारी ID:achhisoch.com@gmail.com पर भेज सकते हैं, पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ Share करेंगे. धन्यवाद!

19 thoughts on “Moral Stories for kid: A Story About Decision Making in Hindi

  • June 25, 2016 at 4:52 am
    Permalink

    Nice story

    26 best हिन्दी प्रेरणादायक, motivation और inspiring कहानियों को पढ़ने के लिए 👇🏻 click कीजिए।

    life aur money blog pe..

    Reply
  • June 27, 2016 at 7:04 am
    Permalink

    Nice story sir
    achhisoch.com team ko tanx

    Reply
  • July 4, 2016 at 1:15 am
    Permalink

    Bahut hi prernadayak hindi kahani hai abdul ji, is kahani se mujhe bahut badi sikh mili hai..sach me time kisi ke liye nahi rookta hai..humen jo mauka milta hai use pakad lena chahiye..aapka bahut bahut dhanyewad aese hi hindi kahani share krte rhe aap..

    Reply
    • July 6, 2016 at 10:23 am
      Permalink

      bahut bahut sukhriya sandeep ji aapka, jarur sandeep ji me aur achhi se achhi kahani share krne ki kosish krta rahunga, sahi kaha aapne waqt kisi ke liye bhi nahi rukta hai.

      Reply
  • July 16, 2016 at 12:22 pm
    Permalink

    Bhai aap ne to dil jeet liya

    Reply
  • July 19, 2016 at 8:37 pm
    Permalink

    Sir apka article kafi heartfull hai, Thanks for it

    Reply
  • October 23, 2016 at 10:12 pm
    Permalink

    nice post Sir me aapke site par 1st time Aayi hu aur Me pichale 2 hour Se Aapki site read kar rahi hu such fabulous content …& nice knowledge sir me ek technical blogger hu pr muze apka blog 1number laga thank you 🙂

    Reply
    • October 25, 2016 at 10:54 am
      Permalink

      Thank you so much for supporting, aese hi aap sabki duaon aur support ki jarurat hai, me aur achhe se achha post likhne ki kosish karunga jis se jiyada se jiyada logon tak motivational baatein pahuch sake..

      Reply
  • December 17, 2017 at 7:27 pm
    Permalink

    Sahi kahaa apne ki time kisi k liye nhi rukta so hume apna decision time pe Lena hota h. thank you

    Reply
  • February 6, 2018 at 7:10 pm
    Permalink

    Wah… Dil ko chhoo gai ye story sabse achchi story hai jo maine ab tak padhi hai.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *