Hindi Kahani Jeevan me Safalta ki Kahaniyan | सफलता की कहानी

Hindi Kahani Jeevan me Safalta ki Kahaniyan

मित्रों नमस्कार, आज हम इस पोस्ट (Post) हिंदी कहानी (Hindi Kahani) जो Safalta ki Kahaniyan से प्रेरित है, इस जीवन में कई ऐसे लोग मिलेंगे जो अपनी जीवन में एक दो रिजेक्शन (Rejection), Fail, के कारण निराश होगये हैं, ये हिंदी कहानी उन्ही को प्रेरित करने के लिए share कर रहा हूँ. उम्मीद करता हूँ आपको जरुर पसंद आएगा.

TOM नाम के एक व्यक्ति ने बहुत दिनों बाद अपने गुरु (Teacher) Mr. Dwyer से मुलाकात की.

आप कुछ परेशान दिख रहे हैं- Mr. Dwyer ने कहा.

जी हाँ गुरु जी कुछ समय पहेले ही मेने बहुत महेनत और दिलसे एक काम (Business) शुरू किया था, और जैसा मेने सोचा था की इसके परिणाम (result) अच्छे आयेंगे, परन्तु सब उल्टा होगया और मुझे वह काम बंद कर देना पड़ा इसी कारण थोडा परेशान हूँ-“Tom ने कहा.

Dwyer ने Tom की पीठ थप-थपाते हुए बोले “कभी कभार ये तो होता ही है” इसमें इतना Tension लेने वाली किया बात है.

लेकिन मेने इसे शुरू करने के लिए बहुत महेनत की हुयी थी, पुरे लगन से मेने इसे शुरू किया था, एक अच्छा और बेहतर परिणाम (results) का पूरा हक़दार था में, फिर भी में फ़ैल कैसे होसकता हूँ, “हताशा (frustration) के साथ TOM ने जवाब दिया.

Dwyer कुछ पल के लिए पूरी तरह से शांत होगये. फिर कुछ देर बाद सोचते हुए बोले, Tom मेरे साथ आओ में कुछ तुम्हे दिखाता हूँ. और वह दोनों साथ में गए और Mr. Dwyer ने कहा ये मरे (dead) हुए टमाटर के पोधे को देखो.

“Yes, जी हाँ ” लेकिन ये तो पुरे ख़राब हो चुके हैं, इसे देख कर किया मतलब? “Tom ने कहा.

किया तुम्हे पता है ! जब मेने इसे बोया था मेने हर एक चीज का ख्याल रखा था इसे उपजाऊ बनाने के लिए, मेने हर एक चीज किया जो इसे चाहिए था, मेने सही समय पर पानी डाले, खाद डाले, कीटाणु से बचाने के लिए मेने कीटनाशक का भी छिडकाव किया परन्तु फिर भी ये मर गए.

“तो क्या हुआ?” Tom ने थोड़े रोष से कहा.

Dwyer ने Tom को समझाते हुए बोले की” आप कितना भी महेनत या प्रयास क्यों न करलो, पर अंतिम समय पर किया होने वाला है उसे हम decide नहीं कर सकते हैं, बस जो चीजें तुम्हारे हाथ में हैं सिर्फ तुम उसे ही कंट्रोल कर सकते हो, बाकी के भगवान पर तुम्हे छोड़ देना चाहिए.

“So What do I Do? “तो में क्या करूं” अगर success की guaranteed नहीं है तो महेनत-प्रयास करने से क्या मतलब, हमें छोड़ ही देना चाहिए फिर तो. “Tom ने कहा.

यही दुविधा है TOM, इस संसार में कई लोग यही बहाना सोचकर जीवन में कुछ बड़ा करने की नहीं सोचते और न ही उस कदम में प्रयास करते हैं की जब success की guarenteed फिक्स (sure) नहीं तो try करने से किया फायेदा. “Dwyer ने कहा.

“Yes” लोगों का सोचने का ख्याल ठीक ही तो है, अगर इतना Hard Work, इतने Time देने के बाद, इतना पैसे लगाने के बावजूद, अगर success सिर्फ luck की बात है तो, तो इतना सभी कुछ करने का क्या फायदा, “Tom दरवाजे से जाते हुए बोला.

“थोडा रुको, जाने से पहेले में तुम्हे कुछ और इस pantry (गोदाम) से कुछ मिल सकता है, जरा ये दरवाजा तो खोलो Dwyer इशारा करते हुए बोले.

“ठीक है Tom ने कहा, और जैसे ही Tom ने दरवाजा खोला उसके सामने बड़े-बड़े रसदार-पके हुए लाल टमाटर भरे पड़े हुए थे. Where they come from? कहाँ से आये ये? Tom ने बड़े आश्चर्यजनक होके पूछा.

Dwyer ने अपने शिष्य tom को सरलता से समझाते हुए बोले, जी हाँ टमाटर के पुरे पोधे नहीं ख़राब हुए थे, अगर तुम सही दिशा में लगातार (consistently) काम करते हो, तो खुद बा खुद आपके success होने के chanse पुरे बढ़ (increse) जाते हैं. परन्तु सिर्फ एक दो प्रयास से अगर हार मान कर बेठ जाते हो तो आपको कुछ भी reward नहीं देती है लाइफ.

Tom अब अपने गुरु की पूरी बात सुन चूका था, और इसे काफी कुछ अच्छी बातें सिखने मिली, Tom ने एक नए जोश-खरोश से काम शुरू करने की वचन भी दी.

Moral Of this Inspirational Motivational Hindi Kahani

मित्रों इस संसार में tom के जैसे हजारों लोग आपको मिलेंगे, जो अपनी एक असफलता के कारण जीवन में कभी भी दूसरा प्रयास करने की सोचते भी नहीं हैं, में मानता हूँ अगर इतनी महेनत और लगन से काम करने के बावजूद शुरू में सफलता नहीं मिलती तो तकलीफ बहुत होता है, लेकिन दोस्तों ये सच भी है अगर हम लगातार महेनत का पर्यास करते हैं तो यकीन मानिए सफलता आपको आज नहीं तो कल जरुर मिलेगी.

इस संसार में कुछ भी असंभव नहीं है, Everything is Possible, क्या आप सिर्फ एक प्रयास के फ़ैल होने से पीछे हट रहे? इस संसार में आपको कई ऐसे महान व्यक्ति देखने मिलेंगे जिन्होंने अपनी लगातार प्रयास से सफलता पायी है, (Thomas Alva Edison) थॉमस अलवा एडिसन जिन्होंने Electric Light बनायीं, शुरुवात में 10 हजार बार परीक्षण में फ़ैल हुए लेकिन अपनी लगातार प्रयास से इन्होने ये काम कर दिखाया. आप खुद सोचिये अगर थॉमस एडिसन अपनी First प्रयास में फ़ैल होने के कारण अगर आगे प्रयास नहीं करते तो किया आज हमें इतनी बड़ी facility इलेक्ट्रिक लाइट की मिल पाती? बिलकुल नहीं.

तो दोस्तों आज ही उठो और आने वाली चुनोतियों का डट कर मुकाबला करो, और ये हिंदी कहानी Hindi Kahani आपको कैसी लगी जरुर कमेंट (comment) में बताएं. और Safalta ki Kahaniyan पढने की लिए हमेशा विजिट करते रहें.

Note: ये प्रेरणादायक Safalta ki Hindi kahani Better Life Coaching Blog से  Translate की गयी है, D.Poke के अनुमति के अनुसार. The Dead Tomato Plant : A Story About Focusing On What We Control.

इन सभी प्रेरणादायक हिंदी कहानियों को भी जरुर पढ़ें.

Please follow and like us:

achhisoch

यदि आपके पास हिंदी में कोई प्रेरणादायक कहानी , Article, Computer Tips, सामान्य ज्ञान, या कोई महत्वपूर्ण जानकारी है जो आप हमारे साथ Share करना चाहेते हैं तो आप हमारी ID:achhisoch.com@gmail.com पर भेज सकते हैं, पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ Share करेंगे. धन्यवाद!

10 thoughts on “Hindi Kahani Jeevan me Safalta ki Kahaniyan | सफलता की कहानी

  • August 10, 2016 at 11:44 pm
    Permalink

    Very nice and Great Motivation Stories

    Reply
  • August 12, 2016 at 8:00 pm
    Permalink

    बहुत ही प्रेरणादायक हिंदी कहानी है।।

    Reply
    • August 13, 2016 at 9:46 am
      Permalink

      bahut bahut dhanyewad sandeep ji hindi kahani ko padhne ke liye

      Reply
  • December 27, 2016 at 9:37 pm
    Permalink

    यह एक शिक्षा प्रद कहानी है | किसी कार्य में आने वाले छोटे छोटे अवरोध से हार कर बैठने वाला व्यक्ति कभी सफल नहीं होता,न ही समस्याओं का समाधान प्राप्त कर पाता है |लगभग इसी विषय पर आप ” रक्तबीज ” कहानी पढ़ सकते हैं desichoupal.blogspot.com

    Reply
    • December 28, 2016 at 3:04 pm
      Permalink

      बहुत बहुत धन्यवाद Raka Verma जी

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *