bhagwan gautam buddha story in hindi |भगवान गौतम बुद्ध

Bhagwan gautam buddha story in hindi | भगवान गौतम बुद्ध

आज हम इस post bhagwan gautam buddha story in hindi में पढेंगे जीवन से जुडी कुछ एहम उपदेश, की ईश्वर की कृपा को जान लेने पर, इस संसार में कोई गरीब नहीं.

बहुत समय पहेले की बात है एक गाँव में धर्म उपदेश के लिए लगे हुए शिविर में (bhagwan gautam buddha) भगवान गौतम बुद्ध पहुचें. गाँव  के लोग अपनी अपनी समस्याएं लेकर उनके पास जाते और bhagwan gautam buddha से समाधान प्राप्त कर नई उर्जा के साथ लौटते.

गाँव के बाहर एक गरीब राह में बेठा, बुद्ध के पास आते जाते लोगों को निहारता रहेता, उसने क्या देखा? दुखी चेहरा लिए भारी क़दमों से लोग भगवान गौतम बुद्ध (bhagwan gautam buddha) के शिविर में जाते और नई उर्जा के साथ चेहरे पर ख़ुशी व आनंद लिए वापस लौटते.

गरीब ने सोचा क्यों न में भी भगवान के पास अपनी समस्या लेकर जाऊं? यह सोचकर हिम्मत करके वह भी शिविर की और चल देता है, शिविर में एक एक व्यक्ति को प्रवेश मिलता है, इसीलिए वह भी अपनी बारी का प्रतीक्षl करने लगा. जो कुछ उसने रास्ते में देखा वह अब यहाँ उसे साक्षlत देखने को मिला लोग एक-एक कर अपनी समस्याएं बता रहे थे, (bhagwan gautam buddha) भगवान गौतम बुद्ध चुपचाप शान्ति से सबकी समस्या सुनते और जवाब देते. उसकी भी बारी आई,

उसने bhagwan gautam buddha को प्रणाम किया और बोला, भगवान में ही गरीब क्यों? भगवान गौतम बुद्ध मुस्कुराए और बोले, तुमने कभी किसी को दिया ही नहीं इसीलिए गरीब हो. वह आस्चर्य से भगवान गौतम बुद्ध का मुहं ताकने लगा और बोला “bhagwan मेरे पास देने के लिए कुछ है ही नहीं” बड़ी मुश्किल से गुजारा हो पाता है और कभी-कभी तो भूखे ही सोना पड़ता है, इतना गरीब हूँ.

bhagwan gautam buddha शांत भाव से बोले तुम्हारे पास एक चेहरा है किसी को भी मुस्कुराहट दे सकते हो, तुम्हारे पास मुहं है किसी को भी प्रशंसा भरे कुछ शब्द दे सकते हो, दो हाथ हैं तुम्हारे पास किसी को भी मदद कर सकते हो, दरअसल जिसके पास ये तीन चीजें हैं, वह भला कैसे गरीब होसकता है? गरीब का भाव मन में होता है मन से यह भ्रम निकाल दो.

लोगों को देते जाओ गरीबी अपने आप ही दूर होजाएगी. यह बातें भगवान गौतम बुद्ध से सुनकर गरीब का चेहरा दमक उठा और इस शिक्षl को जीवन में उतार कर सचमुच में जीवन खुशियों से भर गया.

Bhagwan gautam buddha ke updesh से हमें आज क्या सिख मिलती है?

मंदिर में भी लोग जाते हैं तो कुछ न कुछ मांगते रहेते हैं और जीवन भर कुड-कुड कर, रो-रो कर समय बिता देते हैं, ईश्वर की कृपाओं को कभी समझे नहीं. इसी पर कबीरदास जी ने एक बहुत बेहतरीन दोहे कहे हैं आईये पढ़ते हैं और समझते हैं.

सबके पल्ले लाल है, सबहि साहूकार, गांठ खोल परखा नहीं, या विधि रहा कंगाल.

हमारी अंटी में एक बेशकीमती लाल बंधा हुआ है और उसे खोला नहीं कभी इसीलिए हम कंगाल में जी रहे हैं.

मित्रों मनुष्य जीवन एक अनमोल अवसर है और विधाता की असीम कृपा का तोहफा है, हमारा सर्व प्रथम यह कर्तव्य होता है की हम उस परवरदिगार की इनायतों को समझें, ईश्वर की कृपा को जानने के लिए पुस्तकों को पढना नहीं है, न ही घर परिवार को छोड़ना है जैसे की लोगों का कहेना है की हमारे पास वक़्त नहीं है, धंधा-रोजगार में सदा व्यस्त रहेते हैं, जबकि हमें अपने सारे कर्तव्य कर्म करते हुए ईश्वर की कृपाओं का अनुभव प्राप्त करना है जोकि बहुत ही सरल व सहेज है.

संत-महात्माओं के पास वह विधि है, वह ज्ञान है, जिसके द्वारा ईश्वर-कृपा की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. सच्चा संत-सद्गुरु वही है जो हम पर हो रही ईश्वर की कृपाओं का प्रत्यक्ष बोध अनुभव करा दे, फिर इस संसार में कोई भी अपने आप को गरीब नहीं कहेगा, क्यों की अनमोल धन जो प्रपात कर लेता है.

अनमोल स्वांस को क्या हमने पहेचाना? कितना अनमोल है? हीरे से जियादा बेशकीमती जिसके कारण हमारा अस्तित्व है. यदि उसका अनुभव हमने कर लिया तो जीवन में कभी किसी चीज की कमी महसूस नहीं होगी, तो समझना है, महसूस करना है और अनुभव करना है ईश्वर की कृपाओं क और जीवन धन्य करना है.

Read Best Inspirational Hindi Stories Collection with Moral

  1. जीवन में सफलता की कहानी
  2. मेंडक की सिख
  3. ऐसा झूट भी सत्य से बढ़कर है
  4. सकारात्मक विचार कैसे बनाएं
  5. Best Collection Hindi Stories List

Please follow and like us:

achhisoch

यदि आपके पास हिंदी में कोई प्रेरणादायक कहानी , Article, Computer Tips, सामान्य ज्ञान, या कोई महत्वपूर्ण जानकारी है जो आप हमारे साथ Share करना चाहेते हैं तो आप हमारी ID:achhisoch.com@gmail.com पर भेज सकते हैं, पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ Share करेंगे. धन्यवाद!

13 thoughts on “bhagwan gautam buddha story in hindi |भगवान गौतम बुद्ध

  • August 25, 2016 at 3:47 pm
    Permalink

    nice information Achhisoch.com

    Reply
  • October 15, 2016 at 12:16 pm
    Permalink

    Hume bas apne karm she MATLAB rakhna hai,kyuki is duniya mein sabko apna rasta khud chunna parts hai,

    Reply
  • October 15, 2016 at 12:18 pm
    Permalink

    Bhagwan ek hai or who satya hai,

    Reply
  • December 3, 2016 at 9:06 am
    Permalink

    Mujhe sak hai aur bhram bhi God is look me maujud hain kyunki agar WO hain to ek garib Jo hamesha dusron ki madad karta hai aur chain se kabi ni reh pata aur dusri taraf ek amir bina kuchh kiye jhut ka sahara lekar chain ki need sota hai ajke yug me WO kahaniyan sab jhuti sabit ho rahi hai jise budh ji Kaha tha mai sahamat ni hun ki God is dumia maujud hain

    Reply
  • December 3, 2016 at 9:08 am
    Permalink

    Mujhe sak hai aur bhram bhi God is look me maujud hain kyunki agar WO hain to ek garib Jo hamesha dusron ki madad karta hai aur chain se kabi ni reh pata aur dusri taraf ek amir bina kuchh kiye jhut ka sahara lekar chain ki need sota hai ajke yug me WO kahaniyan sab jhuti sabit ho rahi hai jise budh ji Kaha tha mai sahamat ni hun ki God is dumia maujud hain please tell me anyone that god is present here

    Reply
  • January 1, 2017 at 10:31 pm
    Permalink

    बहुत ही कहानी है …………
    “अगर भगवान नहीं है तो जिक्र क्यों …और अगर है तो फ़िक्र क्यों ………………..

    Reply
  • March 14, 2017 at 5:20 pm
    Permalink

    भगवान् से भला क्या छिपा हैं, वो सब जानता हैं, वो हम सभी में विद्यमान हैं, बहुत ही अच्छी पोस्ट एक बहुत ही अच्छे सन्देश के साथ, धन्यवाद

    Reply
  • March 22, 2017 at 10:27 pm
    Permalink

    बहुत ही बढ़िया article है ….. ऐसे ही लिखते रहिये और मार्गदर्शन करते रहिये ….. शेयर करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। 🙂 🙂

    Reply
  • April 3, 2017 at 4:05 pm
    Permalink

    very nice ….

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *