lalach buri bala hai story in hindi

Lalach Buri Bala Hai Story in Hindi : लालच बुरी बला है

दोस्तों एक पुरानी कहावत है की लालच से हमेशा नुक्सान हमारा खुदका हुआ है, आज हम इस छोटी से post lalach buri bala hai story in hindi में पढेंगे कुछ प्रेरणादायक सिख, की जीवन में लालच से कभी किसी का भला नहीं हो पाया है.

एक बार की बात है. एक व्यक्ति था वह पशु पक्षियों का व्यापार किया करता था. एक दिन उसे अपने गुरु को पशुपक्षियों से बातें करते देखा.

उसने अपने गुरु से पुछा कि क्या आप इनकी भाषा समझते हैं.

गुरूजी बोले- हाँ, मैं ये भी समझ सकता हूँ कि ये आपस में क्या बात कर रहे हैं.

उस व्यक्ति ने सोचा कि अगर मुझे यह विद्या मिल मिल जाए तो ये मेरे लिए लाभकारी सिद्ध हो सकती है. उसने सोचा कि वह यह विद्या जरुर सीखेगा.

यह सोचकर वह गुरूजी के पास गया और उसने पशुपक्षियों की बोली सीखने की इक्षा प्रकट की. गुरूजी ने उसे विद्या सिखा दी. और उससे कहा कि इस विद्या का कभी दुरूपयोग मत करना. कभी भी लोभ में आकर कुसी का अनहित मत करना.

वह व्यक्ति खुश होकर घर लौटा. चूँकि वह जानवरों का व्यापार करता था. तो जानवरों के पास गया. वहां अचानक उसने दो कबूतरों को आपस में बात करते हुए सुना

उसके घोड़े को कोई बीमारी हो गई है. वह एक दो दिन का ही मेहमान है अब वह बचेगा नहीं. बस फिर क्या था उसने घोड़े का इलाज़ करने के वजाय उसे आचे दाम पर बेंच दिया. बाद में पता चला वह वाकई दो दिन बाद मर गया.

उसे यकीन हो गया कि पशु पक्षी आपस में जो भी बात करते हैं वह सही होती है. वे एक दूसरे के बारे में ठीक से जानते हैं.

फिर एक दिन उसने अपने कुत्ते को कहते हुए सुना कि उसकी साड़ी मुर्गियां महामारी से मरने वाली हैं. उसने तुरंत मुर्गियों को भी बेच दिया. उसे बड़ी प्रसन्नता हुई कि वह नुक्सान से बच गया. अपने नुक्सान को किसी और के सर कर दिया.

अब उसके मन में सिर्फ लालच ही लालच था. वह हमेशा पशुपक्षियों की बातें सुनने कि कोशिश करता रहता.

फिर से एक दिन उसने अपनी बिल्ली को यह कहते सुना कि अपना मालिक बीएस अब कुछ दिनों का ही मेहमान है. यह सुनते ही वह घबरा गया. उसके लिए यकीन करना मुश्किल था मगर यकीन कैसे ना करता. आज तक पशु पक्षियों कि हर बात सच निकली है.

लेकिन जब उसने गधे को भी यही बात कहते सुना तो वह बुरी तरह घबरा गया वह  गुरु के पास पहुँचा और गुरूजी को पूरी बात सच बता दी और कहा मेरा अंत समय निकट है इसलिए मुझे कोई ऐसा काम बताइए जिसके करने से मेरी मुक्ति हो जाए.

गुरूजी बहुत नाराज़ हुए और बोले मेरी दी गई सिद्धि का तुमने बहुत गलत उपयोग किया अब एक काम ककरो जाओ अपने आप को भी बेच दो.

गुरूजी बोले अरे मूर्ख सिद्धियाँ भला कभी किसी की गुलाम हुई हैं. इंसान को अपने बुरे कर्मों का फल अवश्य मिलता है. उस फल से कोई सिद्धि नहीं बचा सकती.

हमेशा याद रखो  लालच में आकर कभी भी किसी सिद्धि का उपयोग किसी कि हानि के लिए नहीं करना चाहिए.

इस छोटी सी कहानी से हमें सीख मिलती है कि कभी भी अपने फायदे के लिए दूसरे का नुक्सान नहीं करना चाहिए. पैसे कमाना और लाभ कमाना सही है. मगर किसी को नुक्सान पहुंचाकर कमाया गया पैसा कभी सुख नहीं दे सकता.

We are Most Greatful to Priyanka Pathak Madam for Sharing Motivational Stories lalach buri bala hai story in hindiPriyanka Pathak Madam जी के द्वारा लिखी की अधिक पोस्ट पढने के लिए उनके Blog www.dolafz.com पर जरुर विजिट करें, और साथ ही उनके Motivational Youtube Channel dolafz Hindi Poetry को भी subscribe करें.

Read Best Hindi Story Collection

Please follow and like us:

achhisoch

यदि आपके पास हिंदी में कोई प्रेरणादायक कहानी , Article, Computer Tips, सामान्य ज्ञान, या कोई महत्वपूर्ण जानकारी है जो आप हमारे साथ Share करना चाहेते हैं तो आप हमारी ID:achhisoch.com@gmail.com पर भेज सकते हैं, पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ Share करेंगे. धन्यवाद!

18 thoughts on “lalach buri bala hai story in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *